ChhattisgarhRaipurState
Trending

माता कौशल्या महोत्सव चंदखुरी भिलाई के प्रभंजय चतुर्वेदी श्री राम की स्तुति में राम भजन की प्रस्तुति…. 

माता कौशल्या महोत्सव के दूसरे दिन चंदखुरी स्थित माता कौशल्या धाम में आज विधान सभा अध्यक्ष श्री चरण दास महंत पहुंचे। साथ हैं कोरबा सांसद श्रीमती ज्योत्सना महंत। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. महंत ने महोत्सव में लगाए गए विभिन्न स्टॉलों का अवलोकन भी किया। आज शाम मुख्य अतिथि के रुप में शामिल हुए विधानसभा अध्यक्ष। सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भक्तिगीत और भजनों से राममय हुआ माता कौशल्या धाम, सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का दर्शक उठा रहे हैं आनंद।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत माता कौशल्या महोत्सव को कर रहे हैं सम्बोधित, कहा – हमारी सरकार ने छत्तीसगढ़ की संस्कृति को पुनर्जीवित करने के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। चन्दखुरी का नाम भी अब देश-विदेशों में जाना जा रहा है। जीवन का प्रत्येक क्षण राम से जुड़ा है। हमारी दिनचर्या में सुबह से शाम तक राम का नाम लेने की परंपरा है। मर्यादा पुरूषोत्तम राम सर्वव्यापी हैं।

Related Articles

कौशल्या महोत्सव के दूसरे दिन चंदखुरी में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि भगवान श्री राम सर्वव्यापी हैं। वे हम सबके मन और तन में समाए है। तुलसीदास और वाल्मीकि जी की रचनाओं में श्रीराम का विस्तार से वर्णन मिलता है।

डॉ. महंत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ी संस्कृति, परम्परा और धरोहर को पुनर्जीवित करने का काम किया जा रहा है। कौशल्या माता के धाम चन्दखुरी को अब देश-विदेश में जाना जा रहा है। इसके लिए मुख्यमंत्री श्री बघेल और संस्कृति विभाग बधाई के पात्र हैं।

श्री महंत ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री बघेल की सरकार के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ की विलुप्त होती संस्कृति को सहेजने का काम किया गया है। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम का ननिहाल और माता कौशल्या की नगरी चन्दखुरी में जहां देश का एकमात्र कौशल्या माता का मंदिर है, जिसे राष्ट्रीय एवं अतर्राष्ट्रीय पटल पर रखने का काम किया गया है। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा रामायण और मानस मंडली प्रतियोगिता के माध्यम से राम नाम को जन-जन तक पहुंचाने का कार्य किया गया है। एक विशेष पहल के रूप में छत्तीसगढ़ सरकार ने विदेश मंत्रालय के माध्यम से मानस मंडली के कलाकारों को विदेशों में प्रस्तुति के लिए एमओयू भी किया है। इसके जरिए छत्तीसगढ़ की कला और संस्कृति को विदेशों में भी पहचान मिलेगी।

कौशल्या माता महोत्सव के दूसरे दिन मुम्बई से आए कलाकार मनमोहक प्रस्तुतियां दे रहे हैं। इनमें प्रसिद्ध शास्त्रीय नृत्यांगना सुश्री रविन्दर खुराना – मुम्बई ने ओडिशी नृत्य के माध्यम से भगवान राम के गुणों को मनोहारी ढंग से प्रस्तुत किया।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button