ChhattisgarhRaipurState
Trending

राष्ट्रीय रामायण महोत्सव को संबोधित कर रहे मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, वनवासी राम छत्तीसगढ़ में गुजारे इतने साल….

10 / 100

छत्तीसगढ़ के पूर्वी प्रवेश द्वार रायगढ़ में आयोजित इस महोत्सव में भाग लेने के लिए प्रतिभागियों और श्रोताओं तथा आयोजन से जुड़े अतिथियों, अधिकारियों और कर्मचारियों का स्वागत है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सब्बो झां ला राम औ जय सियाराम इस महोत्सव का नाम भले ही हमने राष्ट्रीय रामायण महोत्सव रखा है, लेकिन इसमें विदेशों से भी दल आते हैं. रायगढ़ संस्कृति भूमि है. यहाँ शैलचित्र भी मिले हैं। यह अपने भीतर मानव संस्कृति का इतिहास समेटे हुए है। हमारा छत्तीसगढ़ माता कौशल्या और शबरी माता का राज्य है। यह आदिवासियों और वनवासियों की भूमि है जो सदियों से यहां रह रहे हैं।

Related Articles

यह कौशल्या माता की स्थिति है। जहां भगवान राम का राज्याभिषेक होना था लेकिन वे वनवास गए। निषादराज से मिले, शबरी से मिले। मुनियों ने मुनियों से मुलाकात की। कितनी मुश्किलें झेली लेकिन अपनी मर्यादा नहीं खोई। यहां उन्होंने 10 साल का वनवास बिताया था।

उन्होंने इतने साल छत्तीसगढ़ में गुजारे, फिर भी वनवासी राम से हमारा रिश्ता है और कौशल्या के राम से भी, इसलिए वे हमारे भतीजे हैं, इसलिए हम भतीजे के पैर छूते हैं. छत्तीसगढ़ का कुछ हिस्सा भगवान राम के चरित्र में दिखता है। राम से हमारा रिश्ता केवल वनवासी राम का नहीं है। बल्कि हमारा रिश्ता भी शबरी के राम, कौशल्या के राम के रूप में है।

उन्होंने कहा कि तीन साल से हम राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव का आयोजन करते आ रहे हैं। अपनी संस्कृति को बचाने का काम कर रहे हैं। उनका घोटुल देवगुरी का संरक्षण कर रहा है। पहली बार आधिकारिक तौर पर राष्ट्रीय रामायण महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। जैसा कि राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव किया गया है। भगवान राम साकार भी हैं और निराकार भी। राम को मानने वाले दोनों रूपों में मानने वाले हैं। हमारा प्रयास है कि हम अपनी संस्कृति को, अपने खान-पान को, अपने त्योहारों को आगे बढ़ाएं।

मैंने देखा कि रामनामी समाज के भाइयों ने मार्च पास्ट किया।
जो कबीर का मार्ग है। रामनामी मार्ग है। वह है निराकार का मार्ग। सबके अपने-अपने राम हैं।
हम अपनी संस्कृति को बचाने का काम कर रहे हैं। हमारे गांवों में भी रामकथा की टोलियां बनाई गई हैं। राम सबके हैं। निषादराज का है, शबरी का है। हर कोई उनसे अपनापन महसूस करता है।

हमने दूसरे राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर तीर्थ स्थलों के लिए 2 एकड़ जमीन मांगी है, ताकि हमारे भक्तों को वहां जाने पर सुविधा मिल सके।
आप लोग बहुत ही शालीनता से यह कार्यक्रम कर रहे हैं।केले का संरक्षण भी हमारी प्राथमिकता है।हमारी सुबह की शुरुआत राम से होती है। संध्या का समापन रामायण से होता है। अंत में उन्होंने सियावर रामचंद्र और हनुमान जी की जय के साथ अपना संबोधन समाप्त किया।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button