ChhattisgarhStateSurguja
Trending

तकनीकी मार्गदर्शन एवं प्रशिक्षण प्राप्त कर किसान अब वैज्ञानिक विधि से लाख की खेती बढ़ा रह….

7 / 100

राज्य सरकार द्वारा लाख उत्पादन को कृषि का दर्जा दिये जाने तथा विभिन्न प्रोत्साहन योजनाओं के फलस्वरूप प्रदेश के किसानों का लाख की खेती की ओर रूझान बढ़ा है। राज्य सरकार से तकनीकी मार्गदर्शन और प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद किसान अब वैज्ञानिक तरीकों का उपयोग करके भी लाख पालन करने लगे हैं। गौरतलब है कि राज्य के विभिन्न जिलों में पारंपरिक रूप से लाख की खेती की जाती है। कुसुम के पेड़ों पर कुसुमी लाख और पलाश तथा बेर के पेड़ों पर बेर रंगीनी लाख राज्य में 50 हजार से अधिक किसानों द्वारा उगाया जाता है।


गौरतलब है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर राज्य सरकार ने किसानों को लाख की खेती के लिए प्रोत्साहित करने और उनकी आय बढ़ाने के लिए विशेष पहल की है। छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ द्वारा बिहान लाख की आपूर्ति और बिहान लाख की बिक्री तथा लाख में फसल ऋण की उपलब्धता के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं की गई हैं। इसी कड़ी में गरियाबंद जिले के किसान लाख उत्पादन कर अधिक मुनाफा कमाने की ओर अग्रसर हैं। गरियाबंद वनमंडल के अंतर्गत लाख की खेती को बढ़ावा देने के लिए चार समूहों का चयन किया गया है। चयनित समूहों में किसानों को वैज्ञानिक तरीकों से लाख की खेती का प्रशिक्षण दिया जाता है। इसके तहत 761 किसान प्रशिक्षण के बाद 8243 कुसुम के पेड़ों और 4849 बेर के पेड़ों में लाख की खेती कर रहे हैं। तकनीकी सलाह और मार्गदर्शन पाकर लाह जिले के किसान वैज्ञानिक पद्धति से 13 हजार से अधिक पौधे उगा रहे हैं।

Related Articles


वन संरक्षक, गरियाबंद वनमंडल ने बताया कि लाख की खेती को अधिक बढ़ावा देने के कारण लाख उत्पादकों से लाख खरीदा गया और अन्य क्षेत्रों के किसानों को भी लाख की आपूर्ति की गई। उन्होंने बताया कि देवभोग क्लस्टर के अंतर्गत जून से जुलाई 2023 की अवधि में अब तक 5 किसानों से 14.53 क्विंटल लाख की खरीदी की जा चुकी है। इसकी कीमत 5 लाख 75 हजार 527 रुपये है. वित्तीय वर्ष 2022-2023 में जिले में लाख की खेती के लिए जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के प्राथमिक साख सहकारी समिति के सहयोग से 66 कृषकों को 23000000000 की राशि का ऋण वितरित किया गया है। साथ ही वित्तीय वर्ष 2023-24 में 17 किसानों को 20 हजार रुपये का ऋण दिया गया. 8 लाख 50 हजार.


राज्य में बिहान लाख की कमी को दूर करने के लिए किसानों से उपलब्ध बिहान लाख को उचित मूल्य पर क्रय करने हेतु क्रय दर निर्धारित की गई है। इसके तहत कुसुमी बहन लाख (बेर के पेड़ से प्राप्त) और रंगीनी बहन लाख (पलाश के पेड़ से प्राप्त) की दरें तय की गईं।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button