Madhya Pradesh
Trending

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विंध्य क्षेत्र से आये आचार्यगणों को किया संबोधित…..

8 / 100

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रीवा में रामानुजाचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय की स्थापना की जाएगी। साथ ही संस्कृत विद्यालयों में कर्मकाण्ड की शिक्षा प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों के लिए छात्रवृत्ति की व्यवस्था भी की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान विंध्य क्षेत्र से आये आचार्यगणों को निवास कार्यालय में संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर जनसम्पर्क मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल, जगदगुरू वैदेही वल्लभ देवाचार्य, मानस पीठाधीश्वर जगदगुरू रामललाचार्य जी तथा विनय शंकर ब्रह्मचारी जी विशेष रूप से उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय विश्वविद्यालय नई दिल्ली के प्रो. देवेंद्र प्रसार मिश्र की पुस्तक “यजुर्वेद में वैश्विक चिंतन तथा नंदकुमार चरितम्” महाकाव्य का विमोचन भी किया।

संस्कृत व संस्कृति का सम्मान हमारा कर्तव्य है

Related Articles

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रभु श्रीराम की कृपा से ही संतों का साथ मिलता है। आज मुख्यमंत्री निवास पधारे आचार्यगण के सानिध्य से मन आनंद से भरा है। राज्य शासन विकास और जनकल्याण के कार्य तो करता ही है पर इसके साथ ही प्रदेशवासियों का जीवन सही दिशा में चले इसकी चिंता करना भी सरकार का दायित्व है। इस दायित्व निर्वहन में आचार्यगण महत्वपूर्ण सहयोगी हैं। प्रदेश में महाकाल महालोक का निर्माण, आदि गुरू शंकराचार्य की प्रतिमा की स्थापना से प्रदेश में अद्भुत अलौकिक वातावरण निर्मित हुआ है। वसुधैव कुटुमबकम् और सभी प्राणियों में सद्भाव के विस्तार के लिए राज्य सरकार निरंतर प्रयासरत है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संस्कृत व संस्कृति का सम्मान तथा उन्हें निरंतर प्रोत्साहित करना हमारा कर्तव्य है।

विंध्य क्षेत्र ने संस्कृत को संरक्षण और प्रोत्साहन प्रदान किया : जनसम्पर्क मंत्री श्री शुक्ल

जनसम्पर्क मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि जब संस्कृत, संक्रमण के दौर से गुजर रही थी तब विंध्य क्षेत्र ने संस्कृत को संरक्षण और प्रोत्साहन प्रदान किया। रीवा में संस्कृत परिषद के लोग क्षेत्र में संस्कृत पर केंद्रित संस्थान स्थापित करने के लिए लगातार सक्रिय रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान की पहल पर संस्कृत के संरक्षण के हुए कार्य अद्भुत हैं। विंध्य क्षेत्र में संस्कृत को समर्पित विश्वविद्यालय की स्थापना से क्षेत्र में उत्साह का वातावरण है।

कार्यक्रम में डॉ. अंजनी प्रसाद पाण्डेय, पं. रामायण प्रसाद तिवारी, डॉ. रामरंगीले द्विवेदी, डॉ. प्रभाकर शंकर चतुर्वेदी, श्री योगेन्द्र द्विवेदी, डॉ. प्रेमलाल पाण्डेय, डॉ. कृष्णकुमार पाण्डेय, श्री रामबिहारी शर्मा, श्री गणेश प्रसाद द्विवेदी, डॉ. रामगोविन्द द्विवेदी, डॉ. सत्यजीत पाण्डेय, डॉ. नर्मदा प्रसाद शर्मा, डॉ. बाबूलाल त्रिपाठी, डॉ. राजीव लोचन त्रिपाठी, श्री अंजनी शास्त्री, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद चतुर्वेदी, श्री माण्डवी शरण त्रिपाठी, श्री कीर्ति कुमार त्रिपाठी, श्री आकाश मिश्रा, डॉ. दीनानाथ श्री सन्तोष कुमार त्रिपाठी, डॉ. नीरज शर्मा, श्री अरूण मिश्रा, श्री कौशलेश मिश्रा, श्री अखिलेश शुक्ला, डॉ. पंकज मिश्रा, श्री विद्यावारिध तिवारी, श्री अमिताभ मिश्रा, श्री सतीश सिंह, डॉ. धनेन्द्र प्रसाद द्विवेदी, डॉ. प्रवीण शर्मा, श्री आचार्य गंगाधर, श्री आचार्य विनय त्रिपाठी, श्री राजीवन शुक्ल, आचार्य प्रशान्त शुक्ल तथा श्री सोम कार्तिक तिवारी उपस्थित थे।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button