ChhattisgarhRaipurState
Trending

जिले को 61 करोड़ रुपए में से 44 करोड़ के 57 विकास कार्यों की सौगात….

14 / 100

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि गौरेला-पेंड्रा-मरवाही क्षेत्र छत्तीसगढ़ में पत्रकारिता और साहित्य का उद्गम स्थल है और यह क्षेत्र साहित्यकारों और पत्रकारों की पुण्यभूमि है. यह वही भूमि है जहां हिंदी साहित्य की पहली कहानी का जन्म हुआ था। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सौभाग्य की बात है कि गौरेला-पेंड्रा-मरवाही को उनके कार्यकाल में नये जिले का सम्मान मिला. वे आज गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला मुख्यालय में आयोजित पंडित माधव राव सप्रे की 152वीं जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे. गौरतलब है कि श्रीकांत वर्मा पीठ बिलासपुर एवं जिला प्रशासन के सहयोग से सप्रे जयंती के अवसर पर व्याख्यान एवं थिंक टैंक का आयोजन किया गया.

मुख्यमंत्री ने महोत्सव में आगे कहा कि पेंड्रा शहर का बहुत पुराना इतिहास है। सन् 1900 में छत्तीसगढ़ मित्र अखबार का प्रकाशन यहीं से शुरू हुआ था। पहली कहानी भी यहीं लिखी गई थी। पत्रकारिता और साहित्य का जन्म यहीं की मिट्टी में हुआ। यह क्षेत्र अरपा ही नहीं, पत्रकारिता और साहित्य का उद्गम स्थल भी है। उन्होंने कहा कि यहां की आबोहवा इतनी अच्छी है कि गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर अपनी पत्नी के साथ यहां स्वास्थ्य लाभ लेने आए थे। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनने के बाद न सिर्फ इस क्षेत्र के लोगों की मांग पूरी हुई बल्कि प्रदेश में जीपीएम समेत 6 नए जिले बने। जिलों के साथ-साथ 19 नए अनुमंडल और 83 नई तहसीलें भी बनाई गईं। हमने जो नए मोहल्ले बनाए हैं, उनमें से लगभग सभी ऐसे मोहल्ले हैं जहां वंचित समुदायों के लोग बड़ी संख्या में रहते हैं। ये वे लोग हैं जिन्हें वर्षों से उनके अधिकारों से वंचित रखा गया है, और जो न्याय के लिए वर्षों से प्रतीक्षा कर रहे हैं। नए जिले बनाने का उद्देश्य सिर्फ इन समुदायों के लिए न्याय तक पहुंच सुनिश्चित करना है।

Related Articles

मुख्यमंत्री ने महोत्सव में प्रदेश व देश के विभिन्न क्षेत्रों के साहित्यकारों को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर जिला प्रभारी एवं राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने भी कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में जिले का निरन्तर विकास हो रहा है और ऐसे आयोजनों से छत्तीसगढ़ को बौद्धिक क्षेत्र में नई पहचान मिल रही है. गौरतलब है कि स्वर्गीय पंडित माधवराव सप्रे स्मृति समारोह में रांची से श्री रवि भूषण, रायपुर से श्री दिवाकर मुक्तिबोध, नई दिल्ली से श्री सुदीप ठाकुर, केरल से श्री अच्युतन एवं मिश्र सहित क्षेत्र के ख्यात साहित्यकारों ने भाग लिया था.

स्वर्गीय सप्रे को 44.61 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात मिली
पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की प्रतिमा का अनावरण
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने 57 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का दान किया. गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के दौरे के दौरान क्षेत्र को 44.61 करोड़ रु. इसमें 16.99 करोड़ रुपये के 35 नवनिर्मित विकास कार्यों का लोकार्पण और 27.62 करोड़ रुपये के 22 नवनिर्मित कार्यों का भूमिपूजन शामिल है. मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर पंडित माधव राव सप्रे प्रेस क्लब सह वाचनालय के नवनिर्मित भवन का उद्घाटन किया. साथ ही प्रेस क्लब परिसर पेंड्रा में स्वर्गीय पंडित माधवराव सप्रे ने पूर्व प्रधान मंत्री श्रीमती की एक प्रतिमा का भी अनावरण किया। इंदिरा उद्यान पेंड्रा में इंदिरा गांधी और राजीव चौक पर पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी। प्रेस क्लब के आग्रह पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने पंडित माधव राव सप्रे की स्मृति को जीवित रखने के लिए नगर पंचायत में पंडित माधव राव सप्रे के प्रवेश द्वार के निर्माण की घोषणा की. साथ ही कलेक्टर को पत्रकारों के लिए पंडित माधव राव सप्रे पत्रकार कालोनी के विकास के लिए चिन्हित कर भूमि आवंटित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए.
इस अवसर पर छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल के अध्यक्ष श्री अटल श्रीवास्तव, राज्य युवा आयोग सदस्य श्री उत्तम वासुदेव, नगर पंचायत पेंड्रा अध्यक्ष श्री राकेश जालान, बिलासपुर संभागायुक्त श्री भीम सिंह, महानिरीक्षक श्री बी.एन. मीणा, गौरेला जिलाध्यक्ष श्रीमती ममता पैकरा, नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती गंगोत्री राठौड़ सहित अनेक जनप्रतिनिधि, गणमान्य व्यक्ति, साहित्यकार, पत्रकार एवं जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं बड़ी संख्या में आम नागरिक उपस्थित थे.

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button