ChhattisgarhRaipurState
Trending

उन्होंने बस्तर के लोगों को सशक्त बनाने का काम, मुख्यमंत्री ने कहा नक्सल प्रभावित बस्तर के लोगों का भरोसा जीता…..

9 / 100

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि बस्तर की धरती शांति, भाईचारे और प्रेम की धरती है। हमने बस्तर के लोगों का विश्वास जीता, बस्तर के विकास के लिए काम किया और लोगों को सुरक्षा प्रदान की। हमने लोगों को सशक्त बनाने का काम किया है. मुख्यमंत्री श्री बघेल ने आज शाम अपने आवासीय कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ‘उभरते बस्तर’ कार्यक्रम के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि सभी जानते हैं कि पहले बस्तर नक्सली गतिविधियों के प्रभाव में था, लोग दहशत में थे। ऐसी स्थिति को हमने संभाला है, हमने बस्तर की जनता का विश्वास जीता है।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि हमारी सरकार बनते ही हमने सबसे पहले किसानों का कर्ज माफ करने, 2500 रूपये में धान खरीदने और लोहण्डीगुड़ा में जमीन लौटाने का काम किया। उन्होंने बस्तर के विकास के लिए काम किया और लोगों को सुरक्षा प्रदान की। इसके अलावा उन्होंने वनाधिकार पट्टे दिलवाये, निर्दोष लोगों को जेल से मुक्त कराया, बंद पड़े विद्यालयों को पुनः खुलवाया। ब्लॉक से लेकर जिला स्तर तक स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ किया गया है। इसके साथ ही हाट बाजार क्लीनिक योजना, स्लम स्वास्थ्य योजना, दाई-दीदी क्लीनिक योजना लागू की गई। उन्होंने बस्तर से मलेरिया को खत्म करने के लिए अभियान चलाया, कुपोषण को खत्म करने के लिए काम किया।


मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि बस्तर की संस्कृति यहां की पहचान है। इस संस्कृति को बचाने के लिए हमारी सरकार ने देवगुड़ी निर्माण, घोटुल निर्माण का काम किया, आदिवासी पर्व सम्मान निधि योजना लागू की, छत्तीसगढ़ी पर्व सम्मान निधि योजना लागू की, गायक पुजारियों को सम्मान राशि देने का काम भी किया गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में प्रशासनिक विकास के लिए जिला, अनुभाग एवं तहसील के गठन का कार्य किया गया है। पहले, डीएमएफ की राशि से केवल बड़ी इमारतें बनाई जाती थीं, हमने इस राशि का उपयोग बुनियादी ढांचे जैसे सड़क, पुल और पुलिया के निर्माण में किया। हमने लोगों को काम देने के लिए काम किया. उन्होंने कहा कि चाहे मजदूर हों, किसान हों, गरीब हों, आदिवासी हों, व्यापारी हों, पत्रकार हों या हमारे अधिकारी-कर्मचारी हों, सभी वर्गों को लगता है कि यह हमारी सरकार है। सरकार ने अपने कार्यक्रम से सभी वर्गों को लाभ पहुंचाया। हमारी सरकार सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व करने वाली सरकार है।
श्री बघेल ने कहा कि बस्तर क्षेत्र की दरभा घाटी में कॉफी का उत्पादन होता है। दंतेवाड़ा में जैविक खेती की जाती है। लोहंडीगुड़ा के पास इमली प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित किया गया है। यहां कोदो, कुटकी और रागी की खेती को प्रोत्साहित किया जाता है। 67 प्रकार की वन फसलों की खरीदी की जाती है। बस्तर में काजू, आम, इमली, महुआ, चिरौंजी, हर्रा-बहेड़ा आदि की खरीदी और इन उत्पादों का मूल्यांकन किया जाता है। इन उत्पादों की विदेशों में भी काफी मांग है। लोगों को रोजगार के अधिक से अधिक साधन उपलब्ध कराने के प्रयास किये गये हैं, गौठानों और रीपा में विभिन्न उत्पाद तैयार किये जा रहे हैं। पहले की सरकारें स्वयं सहायता समूह बनाकर सामान का उत्पादन करती थीं। हमने इन उत्पादों की बिक्री की पुख्ता व्यवस्था की है। जिला स्तर एवं संभागीय मुख्यालयों पर सी-मार्ट प्रारम्भ किये गये हैं। यह सेल Amazon और Flipkart जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर होती है। बस्तर के महुआ की मांग इंग्लैंड में भी है। हमारा लक्ष्य अलग-अलग लोगों को तैयार करना है जो उत्पाद बनाते और बेचते हैं और उन्हें अपने उत्पाद बेचने की परवाह नहीं है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर अत्यंत समृद्ध और सुंदर है। यहां हमारा उद्देश्य पर्यटन को यथासंभव समर्थन देना है। बस्तर अंचल में अच्छी सड़क कनेक्टिविटी विकसित की गई है। इसके साथ ही एयर कनेक्टिविटी को और अधिक विस्तारित करने का प्रयास किया जा रहा है। पर्यटन बढ़ने से यहां लोगों को रोजगार और आय के अच्छे अवसर मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने बस्तर, नारायणपुर, सुकमा, बीजापुर के अंदरूनी इलाकों में शिविर लगाकर लोगों के जॉब कार्ड, आधार कार्ड और राशन कार्ड बनाने का काम किया है। उन्होंने आंगनबाडी केन्द्रों की स्थापना की, अच्छी शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए हर संभव प्रयास किये। आज बस्तर की जनता राज्य सरकार के काम-काज से संतुष्ट है। पहले बस्तर के सुदूर इलाकों में पीडीएस दुकानों तक खाना पहुंचाने के लिए अखबारों का सहारा लिया जाता था. आज स्थिति में बड़ा बदलाव आया है. अब इन इलाकों में चार महीने का राशन आ चुका है. अब नक्सलवाद नहीं बल्कि विकास बस्तर की पहचान बन रहा है। बस्तर में रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं। बैठक के दौरान हमने प्रत्येक गांव को जमीन उपलब्ध कराने के अलावा भवन निर्माण के लिए धनराशि भी दान की.
कार्यक्रम का आयोजन न्यूज चैनल जी मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ द्वारा किया गया था.

Related Articles

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button