ChhattisgarhRaipurState
Trending

मुख्यमंत्री ने गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों को 21.31 करोड़ रुपये का ऑनलाइन किया हस्तांतरण….

14 / 100

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने किसानों से आगामी खरीफ सीजन में कृषि में जैविक खाद एवं जैविक कीटनाशकों का अधिक से अधिक प्रयोग करने की अपील करते हुए कहा कि गोधन न्याय योजना के तहत गोठान में महिला समूहों द्वारा जैविक खाद एवं जैविक कीटनाशक तैयार किये जायें. गौठानों में यह उत्पाद बहुतायत में उपलब्ध है। इनके उपयोग से मिट्टी की उर्वरता बढ़ेगी और खेती की लागत भी कम आएगी।

मुख्यमंत्री श्री बघेल आज अपने आवास पर गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों को ऑनलाइन धनराशि हस्तान्तरित करने के कार्यक्रम के बारे में बोल रहे थे. मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को विश्व पर्यावरण दिवस की बधाई देते हुए कहा कि आने वाले मानसून में अधिक से अधिक पौधे लगाएं और अपने गांवों, गौठानों, खेतों और जंगलों को हरा-भरा बनाएं. मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री प्रदीप शर्मा, अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. कमलप्रीत सिंह, नरवा, गरुवा, घुरवा, बाड़ी योजना के नोडल अधिकारी डॉ. अयाज तम्बोली, कृषि निदेशक श्रीमती राणा साहू कार्यक्रम।

Related Articles

मुख्यमंत्री ने योजना के तहत गोधन योजना के लाभार्थियों के खातों में 21.31 करोड़ रुपये की राशि ऑनलाइन ट्रांसफर की. इस राशि में 16 मई से 31 मई तक गौठानों में खरीदे गए गोबर के बदले रू. ग्रामीण पशुपालकों को 4.91 करोड़ और रु. गौठान समितियों के लिए 8.98 करोड़ और रु. स्वयं सहायता समूहों को 6.29 करोड़। 1.13 करोड़ रुपये की राशि शामिल है।

गौरतलब है कि गोबर विक्रेताओं, गोठाना समितियों व महिला स्वयं सहायता समूहों को आज वितरित की गई राशि को मिलाकर अब तक हितग्राहियों को 538 करोड़ 89 लाख रुपये वितरित किए जा चुके हैं. इसमें से 237.28 करोड़ रुपये गोबर विक्रेताओं को और 223.60 करोड़ रुपये स्वयं सहायता समूहों और गोठान समितियों को योजना की शुरुआत से भुगतान किए गए हैं। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने स्वावलंबी गोठान समिति के अध्यक्षों एवं सदस्यों सहित कुल 21 हजार 360 समिति सदस्यों के मानदेय की राशि 11.3 लाख रुपये की राशि जारी की. स्वावलंबी गौठान समिति के गैर सरकारी सदस्यों को क्रमश: 750 रुपये और 500 रुपये मानदेय दिया जाता है।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में कहा कि प्रदेश में 10 हजार 409 गौठानों का निर्माण स्वीकृत किया गया है, जिनमें से 10 हजार 235 गौठानों का 98 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो चुका है. 4 हजार 584 गौठान ऐसे हैं, जिन्होंने पिछले 15 दिनों में 30 सेंट या इससे अधिक गोबर खरीदा है। पिछले पखवाड़े की तुलना में इतनी बड़ी मात्रा में गोबर खरीदने वाले गौठानों की संख्या में 22 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. इसी प्रकार इस वर्ष इसी अवधि में 16 मई से 31 मई 2022 तक गाय क्रय में गत वर्ष की तुलना में 46 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। प्रदेश के 05 हजार 911 गौठान आत्मनिर्भर बने हैं। अब तक इन गौठानों ने गोबर खरीदने के एवज में कुल 53 लाख 80 करोड़ रुपए का भुगतान किया है। आज गोबर खरीदी के एवज में जारी की गई 04 करोड़ 91 करोड़ रुपये की राशि में से 03 करोड़ 05 करोड़ रुपये स्वावलंबी गौठानों द्वारा और 01 करोड़ 86 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि 15,005 स्वयं सहायता समूहों के 100,000,89,000,614 सदस्य अब तक गौठानों में चल रही विभिन्न आजीविका गतिविधियों से 144 करोड़ 22 लाख करोड़ रुपये कमा चुके हैं. श्री बघेल ने कार्यक्रम से जुड़े सभी लोगों को कार्यक्रम की सफलता के लिए बधाई देते हुए कहा कि आज विश्व पर्यावरण दिवस है। हमारी गोधन न्याय योजना का एक उद्देश्य पर्यावरण की रक्षा करना और उसे बढ़ावा देना भी है। राज्य सरकार सुराजी गाँव योजना, मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना, वृक्ष सम्पदा योजना, कृष्णा कुंज योजना, नदी किनारे पौधरोपण, फलदार वृक्षारोपण जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से अपने पर्यावरण को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रही है।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button