ChhattisgarhStateSurguja
Trending

स्थानीय ग्रामीणों को महात्मा गांधी ग्रामीण औद्योगिक पार्क बहनटांगर में रोजगार, ग्रामीणों के लिए आर्थिक समृद्धि का द्वार….

6 / 100

ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ शासन की मंशा के अनुरूप पत्थलगांव विकासखण्ड के बहनटांगर गौठान में महात्मा गांधी ग्रामीण उद्योग पार्क का निर्माण कराया जा रहा है. रीपा के तहत गांव के लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है और राहत समूह की महिलाएं रॉड बनाने, सरसों का तेल बनाने, सामुदायिक फार्म, चिकन, हैचरी, मुर्रा बनाने और टमाटर केचप बनाने में बेहतर ढंग से लगी हैं। इसके साथ ही वर्मीकम्पोस्ट पैकेजिंग के लिए बैग प्रिंटिंग का उत्पादन भी चल रहा है।

Related Articles

कलेक्टर डॉ. रवि मित्तल एवं जिला पंचायत सीईओ श्री जितेंद्र यादव के निर्देशन में समूह की महिलाएं विभिन्न आजीविका गतिविधियों से जुड़कर आत्मनिर्भर बनी हैं.
मस्तूल निर्माण एवं मुर्रा फेब्रिकेशन- गौठान में पुष्कर सरस्वती समूह द्वारा वर्ष 2019 से मस्तूल निर्माण कार्य किया जा रहा है। मांग के अनुसार अन्य व्यापारियों के साथ गौठानों को बिक्री की गई है। इस कार्य से समूह के सदस्यों को नई नौकरियां मिलीं और समूह ने रु. 6 हजार पिलर निर्माण से 4 लाख 20 हजार रु. पोल निर्माण के अलावा, पुष्कर सरस्वती समूह सामुदायिक फार्म और बकरी पालन के माध्यम से भी अतिरिक्त आय अर्जित करता है। इसी तरह ग्रुप मुर्राह प्रोडक्शन के काम में लगा है। महिलाओं को मुर्राह मशीन भी उपलब्ध कराई गई।
सरसों तेल की पेराई रिपा के तहत सरसों के तेल के उत्पादन में पूजा स्वयं सहायता समूह की महिलाएं सरसों के तेल की पेराई का कार्य करती हैं। रिवॉल्विंग फंड और कम्युनिटी इनवेस्टमेंट फंड की मदद से ऑयल क्रशिंग कार्यों में सुधार किया जा रहा है। तेल की शुद्धता के कारण स्थानीय लोगों और अन्य दुकानों में इसकी मांग लगातार बनी रहती है और महिलाएं अच्छा जीवन यापन करती हैं।
बाड़ी समुदाय – महिला शक्ति स्वयं सहायता समूह की महिलाएं सामुदायिक बाड़ी के काम से जुड़ी हैं और स्थानीय बाजारों में हरी सब्जियों का उत्पादन और बिक्री की जाती है। सब्जियों की डिमांड बारहों महीने लोगों के पास रहती है, जिससे सीजन के हिसाब से उगाई गई सब्जियां जल्दी बिक जाती हैं। आमदनी अच्छी होने की वजह से महिलाएं इस काम को दिलचस्पी से करती हैं।
पोल्ट्री हैचरी का काम- मुर्गी के अंडे से चूजे पैदा करने का काम जय माता स्वयं सहायता समूह की महिलाएं करती हैं। उनके द्वारा मांग के अनुसार चूजों को गोठान भेजा जाता है और वे स्वयं मुर्गी पालन कर आर्थिक आय अर्जित करते हैं।
टोमैटो केचप – टोमैटो केचप भी संस्कार स्वयं सहायता समूह की महिलाएं बनाती हैं। केचप सी-मार्ट और स्थानीय स्तर पर बेचा जाता है। रीपा के तहत समूह की महिलाओं के पास जिला प्रशासन से आजीविका का साधन है और उनके द्वारा तैयार सामग्री सी-मार्ट, स्थानीय बाजारों, आश्रम छात्रावासों और जिला और राज्य की प्रदर्शनियों में भी बेची जाती है।
राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के जिला मिशन पदाधिकारी श्री विजय शरण प्रसाद ने जानकारी देते हुए बताया कि बहनटांगर गौठान में महिलाएं आजीविका के विभिन्न साधनों से जुड़ी हैं.

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button