National
Trending

चंद्रयान-3 का अहम पड़ाव आज, विक्रम लैंडर होगा डी-बूस्टिंग….

10 / 100

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के चंद्रयान-3 मिशन का विक्रम लैंडर आज शाम 4:00 बजे एक महत्वपूर्ण डीबूस्टिंग प्रक्रिया से गुजरने वाला है। यह बड़ा कदम 23 अगस्त को चंद्रमा की सतह पर निर्धारित लैंडिंग के लिए अंतरिक्ष यान की अंतिम तैयारियों का हिस्सा है। डीबूस्टिंग में एक अंतरिक्ष यान के वेग को कम करके उसे धीमा करना शामिल है, जो एक स्थिर कक्षा प्राप्त करने की दिशा में एक आवश्यक प्रक्रिया है। इस ऑपरेशन के बाद विक्रम लैंडर चंद्रमा की थोड़ी निचली कक्षा में प्रवेश करेगा। यह प्रक्रिया लैंडर को चंद्रमा की सतह पर अंतिम लैंडिंग के लिए तैयार करेगी। विक्रम लैंडर का नाम भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक विक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया है।

डीबूस्टिंग ऑपरेशन 14 जुलाई को चंद्रयान-3 के लॉन्च के बाद से चल रहे सफल ऑपरेशनों की श्रृंखला का हिस्सा है। चंद्रयान-3 ने पहले पृथ्वी की पांच परिक्रमाएं पूरी कीं, उसके बाद 1 अगस्त को ट्रांस-लूनर इंजेक्शन लगाया गया। जिसने इसे चंद्रमा की ओर जाने वाले मार्ग पर भेज दिया। चंद्रयान-3 ने 5 अगस्त को सफलतापूर्वक चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश किया। विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर गुरुवार को प्रोपल्शन मॉड्यूल से सफलतापूर्वक अलग हो गए। प्रणोदन मॉड्यूल वर्तमान कक्षा में महीनों या वर्षों तक अपनी यात्रा जारी रखेगा, जबकि लैंडर चंद्रमा पर अंतिम लैंडिंग के लिए तैयारी कर रहा है।

Related Articles

एक बार जब विक्रम लैंडर की डीबूस्टिंग पूरी हो जाएगी, तो इसे चंद्रमा की करीबी कक्षा में स्थापित करने के लिए ऑपरेशनों की एक श्रृंखला शुरू की जाएगी। इस कक्षा में, चंद्रमा का निकटतम बिंदु पेरिल्यून 30 किमी है और चंद्रमा से सबसे दूर बिंदु अपोलोन 100 किमी है। यह ऑपरेशन लैंडिंग के सबसे महत्वपूर्ण हिस्से के लिए मंच तैयार करता है, जो 30 किमी की दूरी तय करेगा। इसमें लैंडिंग की ऊंचाई से लेकर अंतिम लैंडिंग तक लैंडर की गति को कम करना शामिल है। इस मिशन की सफलता से दुनिया में अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में भारत की स्थिति और मजबूत होगी।

वहीं, रूसी लूना-25 मिशन ने चंद्रमा की पहली तस्वीरें भेजी हैं। जिसमें दक्षिणी ध्रुवीय क्रेटर ज़ीमैन को दिखाया गया है, जो चंद्रमा के सुदूर भाग पर स्थित है। चंद्रमा का सुदूर भाग, जिसे “डार्क साइड” भी कहा जाता है, चंद्रमा का गोलार्ध है जो अपने घूर्णन के कारण पृथ्वी से कभी दिखाई नहीं देता है। इस क्रेटर का शाफ्ट अपेक्षाकृत सपाट फर्श से 8 किलोमीटर की ऊंचाई तक पहुंचता है, जो इसे भौगोलिक रूप से दिलचस्प जगह बनाता है। ये नई छवियां मौजूदा डेटा के पूरक के लिए इस क्रेटर के बारे में बहुमूल्य अतिरिक्त जानकारी प्रदान करती हैं।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button