Madhya Pradesh
Trending

भारतीय ज्ञान परम्परा के पाठ्यक्रमों में समावेश से भारत के दृष्टिकोण को जानेंगे विद्यार्थी

8 / 100

भारतीय ज्ञान परम्परा के पाठ्यक्रमों में समावेश से, विद्यार्थी भारतीय दृष्टिकोण से अवगत होंगे। हमारी मान्यताओं और परंपराओं को विश्व ने अंगीकार किया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति – 2020 के परिप्रेक्ष्य में पुस्तकों एवं पाठ्यक्रमों के लेखन में हिंदी ग्रंथ अकादमी के प्रयास प्रशंसनीय हैं। यह बात उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा एवं आयुष मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने शुक्रवार को भोपाल स्थित मप्र हिंदी ग्रंथ अकादमी भवन में अकादमी के 54वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह में कही। मंत्री श्री परमार ने अकादमी परिवार को शुभकामनाएं एवं बधाई दी।

उन्होंने कहा कि अकादमी का इतिहास और विकास यात्रा, प्रगति पथ पर अग्रसर रहने के लिए मील का पत्थर है। श्री परमार ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति – 2020 के अनुसरण में प्रदेश अग्रणी है और इसके क्रियान्वयन में हिंदी ग्रंथ अकादमी की अग्रणी एवं उल्लेखनीय भूमिका है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति – 2020 के अनुसरण में पुस्तक लेखन के लिए अकादमी ने 3 वर्षों में 180 से अधिक नए लेखकों का चयन किया। प्रदेश भर के उत्कृष्ट लेखकों को एक मंच उपलब्ध कराना, अकादमी की बड़ी उपलब्धि है। अकादमी के लेखक शिक्षा जगत के लिए महत्वपूर्ण पूंजी है।

उच्च शिक्षा मंत्री श्री परमार ने कहा कि वर्तमान में मध्यप्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमी द्वारा प्रकाशित पुस्तकों में 15% की छूट का प्रावधान है।

प्रदेश के 53 प्रधानमंत्री कॉलेज ऑफ़ एक्सीलेंस में बिक्री केंद्र की स्थापना कर विद्यार्थियों को 40% छूट पर अकादमी द्वारा प्रकाशित सभी विषयों की हिंदी माध्यम की पुस्तकें उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने समस्त विश्वविद्यालयों में अकादमी के द्वारा पाठ्यक्रम के अतिरिक्त सभी तरह की पुस्तकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा।

मध्यप्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमी के निदेशक श्री अशोक कड़ेल ने अकादमी की विकास यात्रा एवं उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। प्रवेश एवं शुल्क विनियामक आयोग के अध्यक्ष डॉ. रवींद्र कान्हेरे ने अकादमी के उल्लेखनीय कार्यों की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि अकादमी का पुस्तकों के अनुवाद, अनुवाद से पुस्तकों के प्रकाशन से लेकर पाठ्यक्रम आधारित पुस्तकों के प्रकाशन तक की यात्रा उल्लेखनीय है, इससे प्रदेश के विद्यार्थी लाभान्वित हो रहे हैं। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री के सी गुप्ता, आयुक्त उच्च शिक्षा श्री निशांत बरबड़े एवं विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलगुरू – कुलसचिव सहित अकादमी के अधिकारी – कर्मचारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन प्रभारी सहायक संचालक श्रीराम विश्वास कुशवाहा ने किया और श्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने आभार व्यक्त किया।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button