Madhya PradeshState
Trending

मुख्यमंत्री ने आदिवासी समाज के लोगों और सेवानिवृत्त अधिकारियों व कर्मचारियों से की बातचीत….

5 / 100

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में आदिवासी कला, संस्कृति और विरासत का संरक्षण किया जायेगा. आदिवासी वीरों की प्रतिमाएं लगाने के कार्य में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। समाज की आन बान शान और सम्मान के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा। प्रदेश में वीरांगना रानी दुर्गावती की गौरव यात्रा निकाली जायेगी, जिसमें आदिवासियों की सक्रिय भागीदारी होगी. मुख्यमंत्री श्री चौहान अपने निवास कार्यालय में आदिवासी समाज के लोगों एवं समाज के सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारियों से चर्चा कर रहे थे.

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि धरती के संसाधनों को ईश्वर ने सबके लिए बनाया है। प्राकृतिक संसाधनों पर सबका अधिकार है। राज्य सरकार सामाजिक समरसता और समन्वय के साथ-साथ गरीबों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। आदिवासी क्षेत्र में एक समय में स्कूलों और छात्रावासों की कमी थी। अब विभिन्न स्थानों पर बड़े पैमाने पर स्कूल, छात्रावास, महाविद्यालय खोले गए हैं। वर्ष 2006-07 में हमने लड़कियों को स्कूल न जा सकने को ध्यान में रखते हुए लड़कियों को साइकिल देने का अभियान शुरू किया था. इसके बाद बेटों को साइकिल भी दी। बड़ी संख्या में बच्चे स्कूल और कॉलेज जाने लगे। अब बड़ी संख्या में बेटे-बेटियां उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

विकास की दौड़ में पीछे रह गए लोगों को बराबरी पर लाएंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा जी का जल विभिन्न जिलों में पहुँचाया जा चुका है। ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर कपिलधारा कुओं की खुदाई की गई है। सिंचाई सुविधाओं में वृद्धि होने से अच्छी फसल होने लगी है। सिंचाई के साधनों का निरन्तर विस्तार किया जा रहा है। विकास की दौड़ में पीछे रह गए लोगों को बराबरी पर लाया जाएगा। पेसा नियम लागू कर दिया गया है। आदिवासी क्षेत्रों में गौण खनिजों पर पंचायतों को अधिकार दिया गया है। पेसा नियम के हर प्रावधान को लागू किया जा रहा है। पेसा नियम महत्वपूर्ण साबित हो रहा है। प्रदेश में लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान की शुरुआत की गई है। युवाओं को रोजगार और अपना व्यवसाय स्थापित करने के लिए अनुदान की व्यवस्था की गई है। प्रदेश में एक लाख पदों पर भर्ती चल रही है, 50 हजार पदों पर और भर्ती होगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आदिवासी समाज के कल्याण के लिये विभिन्न योजनायें क्रियान्वित की गयी हैं. बैगा, भारिया, सहरिया जनजाति की महिलाओं के लिए पोषाहार अनुदान की व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना से सामाजिक क्रांति आ रही है। मुख्यमंत्री शिखो-कामो योजना के तहत युवाओं को प्रशिक्षण एवं भत्ता देने की योजना बनाई गई है। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना जैसी कई योजनाएं चल रही हैं। विदेश में पढ़ाई, नीट परीक्षा आदि की सुविधा दी जा रही है। अब मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिंदी में होगी। यह एक क्रांतिकारी फैसला है। आज करीब 46 लाख बेटियां लाड़ली लक्ष्मी हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना के तहत प्रदेश की सवा करोड़ बहनों को एक हजार रुपये दिये जायेंगे, जो धीरे-धीरे बढ़कर तीन हजार तक पहुंच जायेंगे. मेरा विजन है कि हर बहन करोड़पति बने। उन्होंने समाज के लोगों से कहा कि आमजन के कल्याण की योजनाओं का उचित लाभ दिलाने के लिए मिलकर कार्य करें। लाड़ली बहना सेना का गठन बहनों के कल्याण की योजनाओं का लाभ सही तरीके से हो, इसके लिए किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरकार और प्रशासन के बीच की कड़ी बनकर सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन में सहयोग करें और अपने जीवन को सार्थक बनाएं. टीम गठित कर विभिन्न व्यवस्थाओं पर नजर रखी जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान को आदिवासी समुदाय के लोगों ने तीर-धनुष और फूलों के गुच्छे भेंट किए। मुख्यमंत्री श्री चौहान का पगड़ी बांधकर स्वागत किया गया। कार्यक्रम में सभी जिलों से आदिवासी समाज के लोग उपस्थित रहे।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button