Madhya PradeshState
Trending

MSMEs निवेश राज्य सरकार और प्रतिष्ठित कंपनियों और संस्थानों के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर…..

10 / 100

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लिये अलग मध्यप्रदेश बनाने की हमने जो योजना तैयार की है, मजबूत औद्योगिक परिदृश्य बनाने और रोजगार पैदा करने की भावना उनके रोम-रोम में है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में 21वीं सदी का आत्मनिर्भर भारत बनाने के यज्ञ में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमियों की भूमिका जितनी महत्वपूर्ण है, उतनी ही बड़े उद्योगों की भूमिका है। युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने में इन उद्यमियों की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है, ये स्थानीय स्तर पर निवेश एवं रोजगार के अवसर सृजित करने के सशक्त माध्यम हैं। राज्य सरकार ने स्थानीय पर्यावरण-स्थानीय संसाधनों पर काम करने वाली इन इकाइयों की मदद और विकास के लिए हर संभव सहयोग देने का संकल्प लिया है। इसके लिए, आज के शिखर सम्मेलन का आदर्श वाक्य है “

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने होटल आमेर ग्रीन भोपाल में राज्य स्तरीय एमएसएमई समिट का शुभारंभ किया. भोपाल की महापौर श्रीमती मालती राय विशेष रूप से उपस्थित रहीं। शिखर सम्मेलन में कई उद्योग संघों के प्रतिनिधियों, बड़े औद्योगिक घरानों, नए उद्यमियों, केंद्र और राज्य सरकारों के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीप प्रज्वलित कर शिखर सम्मेलन का शुभारंभ किया। मध्य प्रदेश में एमएसएमई की भूमिका पर एक लघु फिल्म दिखाई गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सफल उद्यमियों को एमएसएमई पुरस्कार प्रदान किये तथा राज्य सरकार एवं देश की प्रतिष्ठित कंपनियों एवं संस्थानों के बीच एमओयू का आदान-प्रदान भी हुआ. प्रदेश के लगभग सभी जिले कार्यक्रम से जुड़ चुके हैं।

उद्यमियों को नीतियों में सुधार के बिंदु सरकार के साथ साझा करने चाहिए

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की समृद्धि और विकास में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम भागीदार हैं। इस शिखर सम्मेलन का आयोजन इस बात पर चर्चा करने के लिए किया गया था कि हम एक साथ कैसे आगे बढ़ सकते हैं। उत्साह सफलता की कुंजी है। आप सकारात्मक सोच के साथ ईज ऑफ डूइंग बिजनेस का लाभ उठाकर आगे बढ़ते हैं। जहां सरकारी नीति में सुधार की जरूरत है, वहां इन बिंदुओं को सरकार के साथ साझा करें। जो बेहतर होगा उसे लागू किया जाएगा। हम मिलकर काम करेंगे और मध्यप्रदेश को आगे बढ़ाएंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में भारत को विश्व में अग्रणी बनाने के लिए हम सभी संकल्पित हैं।

मुख्यमंत्री सीखो कमाओ योजना के क्रियान्वयन में सहयोग करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में स्वरोजगार और लघु उद्योगों को मदद के लिये 12 योजनायें लाई जा रही हैं. मुख्यमंत्री सीखो कमाओ योजना भी क्रियान्वित की जा रही है जिसमें 700 कार्य चिन्हित किये गये हैं। उद्यमी इस योजना से जुड़ें, युवाओं को जोड़ें, उन्हें कुशल बनाएं और इस योजना का लाभ उठाएं। यह कार्यक्रम उद्यमियों, रोजगार के इच्छुक युवाओं एवं मध्यप्रदेश को सक्षम एवं आत्मनिर्भर बनाने में कारगर है।

सरकार की नीति उद्योग की जरूरतों के अनुरूप है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उद्योग जगत की आवश्यकता के अनुरूप सभी स्तरों पर नीतियों और योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है. प्रदेश में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध खनिज संसाधन, पर्याप्त भूमि, सुविकसित सड़क अधोसंरचना, कृषि उत्पादकता में वृद्धि तथा निवेश हितैषी नीतियों के कारण औद्योगिक विकास की अपार संभावनाएं हैं। MSME क्षेत्र के विकास के लिए एक अलग विभाग बनाया गया है। स्टार्ट-अप्स को प्रोत्साहित करने और उन्हें एक बेहतर पारिस्थितिकी तंत्र प्रदान करने के लिए कई उपाय किए गए हैं। एक्सप्रेसवे को बेहतर सड़क नेटवर्क के साथ विकसित किया जा रहा है। साथ ही इन्वेस्टमेंट कॉरिडोर भी बनेंगे। बेहतर औद्योगिक अवसंरचना सुविधाओं के लिए उद्योग समूहों का विकास किया जा रहा है। “एक जिला-एक उत्पाद” से रोजगार के नए अवसर सृजित होते हैं। योग्य मानव संसाधन की उपलब्धता के लिए, आई.आई.

राज्य ने वित्तीय प्रबंधन की अनूठी मिसाल पेश की

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश निरन्तर विकास की ओर अग्रसर है। हम अब बीमार राज्य नहीं हैं। मध्य प्रदेश की जीएसडीपी का आकार 15 लाख करोड़ रुपये को पार कर गया है। प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय बढ़कर 10 लाख 40 हजार रुपये हो गई। इस साल का बजट 3 करोड़ 14 हजार करोड़ मुकुट है। राज्य ने वित्तीय प्रबंधन की अनूठी मिसाल पेश की। वहीं राज्य सरकार प्रिय नर्सों को एक हजार रुपये महीना देने और पूंजीगत व्यय बढ़ाने पर काम कर रही है.

प्रदेश में उद्यमशीलता का माहौल बना है : मंत्री श्री सखलेचा

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा कि हमारा विभाग अर्थव्यवस्था में अहम योगदान देने वाला विभाग है। एमआईसी

आरओ, छोटे और मध्यम उद्यमों को तकनीकी आधुनिकीकरण की सबसे अधिक आवश्यकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान के सहयोग, नेतृत्व और उदारता से प्रदेश में उद्यमशीलता का वातावरण बना है। राज्य सरकार औद्योगिक क्लस्टरों के साथ प्रदर्शनी केंद्रों और ऑनलाइन कनेक्टिविटी को बढ़ावा दे रही है। राज्य में उत्पादित सामग्री के बेहतर विपणन के लिए भी अधिक प्रयास किए जा रहे हैं।

उद्यमियों को सम्मानित किया

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 2018-19, 2019-20 और 2020-21 के एमएसएमई पुरस्कार प्रदान किए। वर्ष 2018-19 के लिए प्रथम पुरस्कार आईटीएल इंडस्ट्रीज लिमिटेड इंदौर को, द्वितीय पुरस्कार शास्त्री सर्जिकल इंडस्ट्रीज रायसेन को तथा तृतीय पुरस्कार शक्ति एम्पोरियम झाबुआ को प्रभावी कार्य संस्कृति और सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाने के लिए प्रदान किया गया। महिला उद्यमियों में मंत्र कंपोजिट इंदौर की सुश्री ममता महाजन को पुरस्कृत किया गया। वर्ष 2019-20 के लिए नंदिनी चिकित्सा प्रयोगशाला इंदौर को प्रथम पुरस्कार, न्यू लाइफ लैबोरेटरीज मंडीदीप रायसेन को द्वितीय पुरस्कार तथा सेफफ्लेक्स इंटरनेशनल धार को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। मॉडर्न लेबोरेटरीज इंदौर को वर्ष 2020-21 में प्रथम, डीईसीजी इंटरनेशनल मंडीदीप रायसेन को द्वितीय और हेल्थिको क्वालिटी प्रोडक्ट्स धार को तृतीय पुरस्कार मिला। महिला उद्यमी श्रेणी में वर्ष 2020-21 के लिए साई मशीन टूल्स इंदौर की सुश्री शिखा विशाल जायसवाल एवं सुश्री निहारिका अजय जायसवाल एवं अर्थव पैकेजिंग इंदौर की सुश्री ममता शर्मा को पुरस्कृत किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान की उपस्थिति में एनएसई इंडिया, वॉलमार्ट, आरएक्सआईएल, इनवॉइस मार्ट और आईसेक्ट के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर हुए। बदल दिया गया।

एमएसएमई सचिव श्री पी. नरहरि ने अतिथियों का स्वागत किया और शिखर सम्मेलन तथा विभागीय कार्यक्रमों एवं योजनाओं की जानकारी दी। शिखर सम्मेलन में 6 सत्र होंगे जहां उद्यमियों, विषय विशेषज्ञों और युवाओं को व्यावसायिक सलाह मिलेगी। सेमिनारों को विभिन्न उद्योगों में नए अवसरों पर विशेष ध्यान देने के साथ डिजाइन किया गया है। समिट में स्पेशल होगा

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button