Madhya PradeshState
Trending

मध्य प्रदेश की विशेष पिछड़ी जनजाति 13 महिलाओं समेत 65 प्रतिनिधि पहुंचे दिल्ली, राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात…..

11 / 100

मध्य प्रदेश की विशेष पिछड़ी जनजाति (पीवीटीजी) के 65 प्रतिनिधियों को राष्ट्रपति भवन, नवनिर्मित संसद भवन और अमृत उद्यान जाने का सुनहरा अवसर मिलेगा। वह राष्ट्रपति भवन में होने वाली विशेष पिछड़ी जनजाति बैठक (पीवीटीजी बैठक) में भाग लेंगे। इसमें मध्यप्रदेश की बैगा जनजाति के 24, सहरिया के 20 और भारिया के 21 प्रतिनिधि हैं, जिनमें 13 महिलाएं हैं। इन प्रतिनिधियों को राष्ट्रपति श्रीमती से मिलने का अवसर भी मिलेगा। द्रौपदी मुर्मू। यह कार्यक्रम ड्यूटी पथ स्थित डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में होगा। यहां देश भर के करीब 1456 आदिवासी भाइयों के लिए भोज भी होगा।

आदिवासी गौरव और सांस्कृतिक पहचान की दिशा में अनूठी पहल

कार्यक्रम में मध्य प्रदेश के बैगा समुदाय की परधोनी नृत्य प्रस्तुति भी होगी। साथ ही बिहार, गुजरात, केरल, राजस्थान और ओडिशा के आदिवासी भाई भी अपनी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देंगे। भारत सरकार के जनजातीय कार्य मंत्रालय द्वारा एक विशेष प्रवासन कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। मध्य प्रदेश में प्रवास का समन्वय जनजातीय कार्य विभाग के विशेष पिछड़ा जनजाति (पीवीटीजी) प्रभाग द्वारा किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की आदिवासी संस्कृति को गौरवान्वित करने के लिए मध्यप्रदेश के सभी प्रतिभागियों को बधाई दी है। जनजातीय कार्य मंत्री सुश्री मीना सिंह ने चयनित प्रतिभागियों की सराहना की और आदिवासी कलाकारों को बधाई दी। इसके साथ ही प्रमुख सचिव जनजातीय कार्य, मध्यप्रदेश शासन डॉ. पल्लवी जैन गोविल ने कहा कि यह आयोजन देश और मध्यप्रदेश के आदिवासी गौरव और सांस्कृतिक पहचान को आगे बढ़ाने की दिशा में अनूठी पहल होगी.

तामिया-पातालकोट का मोर मुकुट राष्ट्रपति को भेंट किया जाएगा

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले के तामिया और पातालकोट की विशेष पिछड़ी जनजाति भारिया के निवासियों ने छिंद मोर-मुकुट की विशेषता को राष्ट्रपति तक पहुंचाया है. इसके साथ ही उन्होंने पातालकोट की गुफाओं में पाई जाने वाली 24 तरह की दुर्लभ और खास जड़ी-बूटियां और खाने की चीजें भी उपहार में ली हैं। इसमें पातालकोट का प्राकृतिक शहद, अचार, चिरौंजी, गुल्ली, महुआ, बलहर बीज, हर्रा, सावों, कुटकी और पिसे हुए आम शामिल हैं।

राजधानी में गूंजेगा भरियाती गीत ‘पातालकोटवासी है आदिवासी’…

छिंदवाड़ा के पातालकोट की विशेष पिछड़ी जनजाति भारिया के भाई इस कार्यक्रम में ‘पातालकोटवासी है आदिवासी…’, ‘बारह गांव घूमना गारे…’ और ‘धीरे धीरे धीरे जैस दूधी नदी…’ गीत भी सुनाएंगे. . साथ ही प्रदेश के इन आदिवासी भाइयों को सेंट्रल लॉन में राष्ट्रपति के साथ रात्रि भोज और फोटो खिंचवाने का अवसर भी मिलेगा।

राज्य के 14 पीवीटीजी। बहुसंख्यक जिलों के प्रतिनिधि होंगे

पीवीटीजी शामिल मध्यप्रदेश के 14 विशेष आदिवासी बहुल जिले छिंदवाड़ा, ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, दतिया, अशोकनगर, मुरैना, श्योपुर, बालाघाट, अनूपपुर, शहडोल, उमरिया, डिंडोरी और मंडला के आदिवासी भाई सम्मेलन में भाग ले रहे हैं और दो- दिन रहना।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button