ChhattisgarhRaipurState
Trending

आदिवासी नेता नंदकुमार साय कांग्रेस में शामिल,BJP नेताओ मे हलचल…

9 / 100

भाजपा छोड़ने के बाद छत्तीसगढ़ के आदिवासी नेता नंदकुमार साय सोमवार को कांग्रेस में शामिल होने राजीव भवन पहुंचे. कांग्रेस मुख्यालय पर नंदकुमार साय का ढोल-नगाड़ों के साथ जोरदार स्वागत किया गया. साय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हुए. सीएम भूपेश बघेल ने नंदकुमार साय को कांग्रेस की सदस्यता दिलाई. इस मौके पर पार्टी के तमाम दिग्गज नेता मौजूद रहे।

इस अवसर पर बोलते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि आज का दिन बहुत बड़ा है। आजीवन आदिवासियों और श्रमिकों के लिए संघर्ष करने वाले नंदकुमार साय कांग्रेस के सदस्य बन गए। साईं जाना-पहचाना चेहरा हैं। 3 बार विधायक, 3 बार लोकसभा और 2 बार राज्यसभा में। उनका जीवन सादा था। वह नमक नहीं खाता। यदि आप नमक नहीं खाते हैं, तो आप अपने आप को नमकीन बनाने की बात नहीं कर सकते। साय ने कांग्रेस सरकार की तारीफ खुले मंच से की, दबी जुबान से नहीं। मैं उनका कांग्रेस परिवार में स्वागत करता हूं। आज का दिन साईं को सुनने का है।

Related Articles

नंदकुमार साय ने कहा कि यह फैसला मेरे जीवन का बहुत कठिन और अनूठा फैसला है। अटल बिहारी को ट्रैक करता था। उन्होंने भारत माता के लिए कहा कि भारत एक जीवित राष्ट्र है। अटल पार्टी आज इस रूप में मौजूद नहीं है। लगता है हालात बदल गए हैं। उसके बाद भूपेश सरकार आई, जो शहर थे जो शहर बन गए। उन्हें एक नारा पसंद आया, नरवा गरवा घुरवा बड़ी, एला ना छोड़े संगवारी। सनातन चिंतन को यहां नया रूप मिलता है। भगवान राम के नाना तैयारी कर रहे हैं। राम वन गमन रोड बन रहा है।

नंदकुमार साय ने कहा कि भाजपा का स्वरूप आज नहीं बचा है। भाजपा में मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं थी। योगदान में कोई कमी नहीं है, लेकिन आम लोगों का काम भी नजर नहीं आ रहा है. उन्होंने एक सक्षम और समर्पित टीम में शामिल होने का फैसला किया जो जनहित के लिए काम करेगी।

उधर, छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने नंदकुमार साय का स्वागत किया। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने ट्वीट कर लिखा, आदिवासियों के लिए हमेशा आवाज उठाने वाले वरिष्ठ आदिवासी नेता डॉ. नंद कुमार साई जी का हार्दिक स्वागत है. आपके कांग्रेस में आने से आदिवासियों के जल-जंगल-जमीन अधिकार को और मजबूती मिलेगी।

इससे पहले भाजपा नेता भाजपा से इस्तीफा देने वाले नंदकुमार साय को मनाने के लिए उनके घर गए लेकिन वह नहीं माने। भाजपा नेताओं के लौटने के बाद साय ने सोशल मीडिया पर एक कविता पोस्ट की जिसमें उन्होंने कहा कि वह आदिवासी समाज का हित पहले रख रहे हैं।

इससे पहले भाजपा नेता व पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु देव साय व संगठन के महासचिव पवन साय ने नंदकुमार साय से उनके आवास पर मिलने का प्रयास किया, जहां उन्हें बताया गया कि वह दिल्ली में हैं. उनसे फोन पर संपर्क करने का अनुरोध किया गया था। उन्हें अवगत कराया गया लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं आया। भाजपा नेताओं ने कहा कि उन्होंने नंदकुमार साय के बेटे से उनके आवास पर मुलाकात की। करीब 2 घंटे तक अपने आवास पर रहने के बाद उनके फोन से कुछ मैसेज आए लेकिन कोई जवाब नहीं आया। हम भविष्य में उनसे संपर्क करने का प्रयास करेंगे।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button