Madhya PradeshState
Trending

कलेक्टर जिलों में गौशालाओं का संचालन, पशुओं के इलाज के लिए एंबुलेंस….

7 / 100

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वह दिन आ गया है जब एंबुलेंस न केवल मनुष्यों के लिए बल्कि गायों और अन्य जानवरों के इलाज के लिए भी उपलब्ध होगी। एंबुलेंस में पशु चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मी उपलब्ध रहेंगे। जरूरतमंद पशुओं के इलाज के लिए टोल फ्री नंबर। 1962 उन्हें रिहा कर दिया गया। बीमार पशु को अस्पताल ले जाना एक बड़ी समस्या थी। अब इन एंबुलेंस के आने से पशु चिकित्सालय खुद पशुपालक के दरवाजे पर मौजूद रहेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल के लाल परेड मैदान में गोरक्षा समाधान सम्मेलन का शुभारंभ किया तथा प्रदेश के नगरीय क्षेत्रों एवं समस्त विकासखण्डों के लिये 406 पशु औषधालयों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सम्मेलन स्थल पर पहुँचते ही गाय की पूजा की और समस्त गौ धन की पूजा के प्रतीक राधिका बछड़े की पूजा की. उन्होंने दीप जलाकर सम्मेलन की शुरुआत की। राष्ट्रवादी चिंतक, विचारक श्री मुरलीधर राव, खजुराहो सांसद श्री वी.डी._शर्मा, भोपाल सांसद सुश्री प्रज्ञा ठाकुर, मध्य प्रदेश गौ संवर्धन परिषद कार्य समिति के अध्यक्ष स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरि सहित जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सम्मेलन में आये गौरक्षकों एवं गौरक्षकों पर पुष्पवर्षा कर उनका स्वागत किया. मुख्यमंत्री श्री चौहान को गाय के गोबर से बना शिवलिंग भेंट कर ब्रह्मांड की रचना और कार्यप्रणाली में गाय का महत्व बताया।

मवेशियों के अवैध परिवहन में शामिल वाहन राजस्थान जाएंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में पशुवध पर प्रतिबंध है। गायों की हत्या और अवैध परिवहन के लिए 7 साल की जेल की सजा का प्रावधान है। गायों के अवैध परिवहन में शामिल वाहनों को जब्त किया जाएगा। गाय प्राकृतिक खेती के लिए आवश्यक है। घनामृत और जीवामृत गोमूत्र और गोबर से बनाया जाता है। गाय पालने के लिए प्राकृतिक खेती में लगे किसानों को 900 रुपये प्रति माह दिए जाएंगे। इसी माह 22 हजार किसानों को कार्यक्रम की किश्त जारी की जाएगी। आदिवासी भाई बहनों को गौ पालन हेतु गाय खरीदने पर 90 प्रतिशत अनुदान दिया जायेगा। गोबर, गोमूत्र और अन्य गौ उत्पादों के व्यवसाय को भी राज्य सरकार लाभदायक बनाने का प्रयास कर रही है। जबलपुर में गाय के गोबर से सीएनजी बनाने की परियोजना पर काम किया जा रहा है। प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर गोवर्धन प्लांट लगाकर गोबर खरीदने की व्यवस्था की जाएगी, जिससे सीएनजी का उत्पादन होगा।

यह गौशालाओं में उत्पादित प्राकृतिक रंगों के उपयोग का समर्थन करेगा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत स्तर पर शासकीय भवनों में गौशालाओं में बने प्राकृतिक रंगों का उपयोग करने की नीति लाई जायेगी. इससे गोबर और गोमूत्र के कारोबार को बढ़ावा मिलेगा। प्रदेश में आठ गौ-सदन और दो गौ-वंश वन्य विहार विकसित किए जाएंगे। इनके संचालन की जिम्मेदारी गो सेवक संस्था को सौंपी जाएगी। पंजीकृत आश्रयों को बिजली बिल की समस्या न हो और गौ माता की सेवाओं में बाधा उत्पन्न न हो, इसके लिए उपयुक्त नीति बनाई जाएगी। गौशालाओं में पराली की पर्याप्त व्यवस्था के लिए राशि पूर्व निर्धारित की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसान भाइयों से नरवाई न जलाकर पराली प्रबंधन में सहयोग करने की अपील की।

अन्य कलेक्टर जिलों में गौशालाओं का संचालन करेंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार हर ग्राम-पंचायत में गौशालाओं के बजाय बड़ी गौशालाओं के विकास पर भी विचार कर रही है. गौशालाओं के सुचारू संचालन के लिए 4-5 ग्राम पंचायतों के लिए एक बड़ी गौशाला का निर्माण किया जाएगा। मुख्य रूप से प्रदेश में कुछ स्थानों पर ऐसी गौशालाओं को मॉडल के रूप में विकसित किया जाएगा। इन गौशालाओं की व्यवस्था की जिम्मेदारी कोई भी संस्था ले सकती है और संस्था को राज्य सरकार द्वारा आर्थिक सहायता दी जाएगी। जिन गौशालाओं से भूमि जुड़ी हुई है, और यदि ऐसी भूमि पर अतिक्रमण किया जाता है, तो ऐसे अतिक्रमणों को तुरंत खाली कर दिया जाएगा। गौशालाओं को कांजी हाउस का दर्जा देने पर भी विचार किया जाएगा। गायों की संतानों की भी गणना की जाएगी। गौशालाओं की समस्याओं के त्वरित समाधान एवं बेहतर प्रबंधन के लिए जिला स्तर पर अगले कलेक्टर स्तर के अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी जायेगी.

गोशालाएं स्वावलंबी बनेंगी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं प्रदेश की प्रत्येक गौशाला को आत्मनिर्भर बनाने की अपील करता हूं। दाह संस्कार में कम से कम लकड़ी जलानी चाहिए और गाय के गोबर से बनी लकड़ी का अधिक प्रयोग करना चाहिए। पशुपालकों के लिए दूध के अलावा गाय का गोबर, गोमूत्र, गोबर आदि अतिरिक्त आय का साधन बने। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गोद लेने का भी आह्वान किया

प्राकृतिक खेती, खेतों में पराली न जलाना और गायों के लिए नियमित अंशदान। श्री मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी को डरना होगा कि कहीं गाय की संतान आवारा और बेसहारा बनकर सड़कों पर न घूमें.

गाय को माता मानना ही हमारी संस्कृति का आधार है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ईश्वर सृष्टि के कण-कण में विद्यमान है। दशावतार इस बात का प्रतीक है कि ईश्वर सभी प्राणियों में निवास करते हैं। गाय को माता मानना ही हमारी संस्कृति का आधार है। भगवान कृष्ण ने गोवर्धन की पूजा की और हमें प्रकृति की पूजा करने का संदेश दिया। प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय विचार और दर्शन के “वसुधैव कुटुम्बकम” सिद्धांत को पूरी दुनिया के सामने पेश किया।

उन्होंने गौपालन और गौ रक्षा के लिए दृढ़ संकल्प पैदा किया

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गोरक्षा सम्मेलन में प्रदेश की जनता के समक्ष गौपालन एवं संरक्षण पर संकल्प प्रस्तुत किया. उन्होंने इस पुनीत कार्य और गौशालाओं के संचालन में सकारात्मक भूमिका निभाने का आह्वान किया। गौ माता का स्मरण करें, गौ रक्षा भोजन ग्रहण करने से पूर्व प्रतिदिन गौ घास या उसके समतुल्य लेकर गाय की सेवा करने का संकल्प लें। अपने परिवार और समाज को इस कार्य के लिए प्रेरित करें।

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button