National
Trending

भारत ने उत्तरी क्षेत्र में नए मारक क्षमता वाले हेरॉन मार्क 2 ड्रोन शामिल…..

8 / 100

आने वाले दिनों में अगर भारतीय सेना बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक की तर्ज पर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकी ठिकानों को खत्म करना चाहती है तो सेना को वहां घुसकर ऑपरेशन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. जिस तरह से अमेरिका ने ड्रोन हमले में अलकायदा चीफ अल जवाहिरी और दुनिया के कई अन्य देशों को मार गिराया, अब भारतीय वायुसेना को भी हेरॉन ड्रोन मार्क-2 नाम का ऐसा गेम चेंजर हथियार मिल गया है। . इजराइल से लिए गए हेरोन ड्रोन कई खूबियों से लैस हैं.

तीनों सेनाएं रहेंगी तैयार

Related Articles

हेरॉन ड्रोन मार्क-2 को हाल ही में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया है। आने वाले दिनों में इसे तीनों सेनाओं के लिए तैयार किया जाएगा ताकि जरूरत पड़ने पर दुश्मन पर आक्रामक हमला किया जा सके। आइए अब आपको हेरोन ड्रोन मार्क-2 की मारक क्षमता से परिचित कराते हैं। हेरॉन ड्रोन मार्क-2 एक उपग्रह-नियंत्रित ड्रोन है जो 250 किलोग्राम हथियार लेकर उड़ सकता है।

इन सुविधाओं से है लैस

यह थर्मोग्राफिक कैमरा, हवाई निगरानी दृश्यमान प्रकाश, रडार प्रणाली आदि से सुसज्जित है। यह अपने बेस से उड़ान भरता है और मिशन पूरा करने के बाद बेस पर वापस लौट आता है।
हेरॉन ड्रोन को लेजर गाइडेड बम, हवा से जमीन, हवा से हवा और हवा से हवा में मार करने वाली एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों से लैस किया जाना है।
हेरॉन ड्रोन एक बार हवा में उड़ने के बाद 36 घंटे तक उड़ान भरने में सक्षम है और यह जमीन से 35 हजार फीट यानी साढ़े दस किलोमीटर की ऊंचाई पर बेहद शांत तरीके से उड़ता रहता है.
इसे नियंत्रित करने के लिए जमीन पर एक ग्राउंड स्टेशन बनाया जाता है, जिसमें मैनुअल और ऑटोमैटिक कंट्रोल सिस्टम होता है।
यह ड्रोन किसी भी मौसम में उड़ान भरने में सक्षम है। इसका संचार सिस्टम सीधे ग्राउंड स्टेशन के संपर्क में रहता है।
इसके अलावा इसके संचार सिस्टम को सैटेलाइट के जरिए भी जोड़ा जा सकता है और इसके नेविगेशन के लिए प्री-प्रोग्राम्ड फुली ऑटोमैटिक नेविगेशन चलाया जा सकता है। या आप इसे रिमोट से मैन्युअल रूप से नेविगेट कर सकते हैं। इसका कुल वजन 250 किलोग्राम है।
सबसे खास बात ये है कि इन ड्रोन्स को किसी भी तरह से जाम नहीं किया जा सकता. यानी इनमें एंटी-जैमिंग तकनीक है. जो पहले के ड्रोन से ज्यादा ताकतवर है.
हेरॉन ड्रोन में कई तरह के सेंसर और कैमरे लगे होते हैं, जैसे थर्मोग्राफिक कैमरा यानी इंफ्रारेड कैमरा जो रात में या अंधेरे में देखने में मदद करता है। इसके अलावा विजिबल लाइट एयरबोर्न ग्राउंड सर्विलांस है जो दिन के उजाले में तस्वीरें लेता है। इसके साथ ही खुफिया सिस्टम समेत कई तरह के रडार सिस्टम भी लगाए गए हैं।
इस ड्रोन की सबसे बड़ी बात यह है कि यह आसमान से लक्ष्य को लॉक कर उसकी सटीक स्थिति आर्टिलरी यानी टैंक या इंफ्रारेड सीकर मिसाइल को दे सकता है, यानी सीमा के इस पार से ड्रोन द्वारा पाए गए सटीक लक्ष्य पर हमला किया जा सकता है। .

आइए आपको बताते हैं कि हेरोन ड्रोन कैसे फायदेमंद हैं। अगर चीनी सेना लद्दाख सीमा के इस या उस पार भारत के खिलाफ कोई ‘नापाक’ हरकत करती है तो इसका तुरंत पता चल जाएगा। इजरायल ने ये ड्रोन पिछले साल चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद के दौरान भारतीय सेना को दिए हैं। जिसके कैमरे, सेंसर और रडार बाज की आंखों की तरह तेज हैं। उन्हें लद्दाख सेक्टर में तैनात किया गया था.

jeet

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button